सूर्यग्रहण के समय किन बातो का खास ध्यान रखना चाहिए। 

नीचे दी गयी साडी जानकारी को पढ़े और अपने सगे सम्बन्धियों के साथ शेयर करे। 

साल का पहला सूर्य ग्रहण 21 जून 2020 को सुबह 9:15 बजे से शुरू होगा। यह ग्रहण दोपहर में 04:00 बजे होने वाला है। ज्योतिषियों के अनुसार ग्रहण का सूतक काल 12 घंटे पहले यानी 20 जून को रात 9 बजकर 25 मिनट से लगेगा। ग्रहण में सूतक काल को बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। आइए ज्योतिर्विद प्रतीक भट्ट से जानते हैं कि ग्रहण के बाद किन कार्यों को वर्जित माना जाता है।
सूर्य ग्रहण भारत
सूर्य ग्रहण में क्या ध्यान रखे

1. ग्रहण के दौरान किसी भी तरह के भोजन का सेवन न करें। हालांकि, ग्रहण का यह नियम बच्चों, बीमार लोगों और बुजुर्गों पर लागू नहीं होता है।
2. सूतक काल के दौरान किसी भी प्रकार के नए कार्य या शुभ कार्य से बचना चाहिए। घर बनाने, वाहन खरीदने या शादी की तैयारी के बारे में न सोचें।
3. ग्रहण के ग्रहण काल ​​के बाद तीखी चीजों का इस्तेमाल करना अशुभ माना जाता है। सूतक के दौरान तीखी और तीखी चीजें जैसे कैंची, चाकू, कांटा या सुई के इस्तेमाल से बचें।
4. सूतक लगाने के बाद मंदिरों के दरवाजे बंद कर दिए जाते हैं। सूतक के दौरान, आपको पूजा नहीं करनी चाहिए और अपने हाथ से भगवान की मूर्तियों को नहीं छूना चाहिए।
5. ग्रहण की अवधि के बाद, प्रकृति अधिक संवेदनशील हो जाती है। यही कारण है कि इस अवधि के दौरान पेड़, पौधे और पत्ते नहीं तोड़े जाने चाहिए। हालाँकि, पहले से तुलसी के पत्ते रखें और उन्हें पानी में भिगो दें। सूतक के बाद अगर कोई भोजन परोसता है, तो उसमें तुलसी का पत्ता जरूर डालें।
6. सूतक के दौरान बालों में कंघी करना, दांतों को ब्रश करना या नाखून काटना भी अशुभ माना जाता है। इसलिए ग्रहण के दौरान ऐसा कोई काम न करें।
7. सूतक के दौरान, आपको भगवान का ध्यान करना चाहिए, इसलिए नकारात्मकता आपको प्रभावित नहीं करती है। इस समय आप धार्मिक पुस्तकों का भी अध्ययन कर सकते हैं।
8. गर्भवती महिलाओं को भी ग्रहण की घटना को देखने से बचना चाहिए। यदि संभव हो, तो ग्रहण के दौरान घर से बाहर न निकलें। यदि आप एक ग्रहण देखते हैं, तो गर्भ में पल रहे बच्चे को शारीरिक या मानसिक समस्या हो सकती है।
9. धार्मिक मान्यता के अनुसार, ग्रहण के बाद किसी भी गरीब या असहाय व्यक्ति का अपमान नहीं किया जाना चाहिए। ऐसा करने से आप पाप के भागीदार बन जाते हैं।
10. ग्रहण काल ​​के ग्रहण के बाद, गर्भवती महिलाओं को धातुओं से बनी वस्तुओं को नहीं पहनना चाहिए और न ही ग्रहण समाप्त होने तक उनका उपयोग करना चाहिए।
11. इस दौरान गर्भवती महिलाओं को खाने में स्प्रिंकल या तड़का नहीं लगाना चाहिए। जितना संभव हो उतना सरल भोजन करना बेहतर होगा।
12. सूतक काल के बाद मांस, मछली, शराब या सिगरेट आदि का सेवन भी वर्जित है। सूतक लगाने के बाद ही इसका सख्ती से परहेज करना चाहिए।
यह सारी जानकारी अपने परिवार वालो के साथ शेयर करे और उन्हें किसी भी तरह की गलती करने से रोके।

By Avnish Singh

Hii. I am Avnish Singh, By education i am a mechanical engineer and and a passionate blogger and freelancer. In Mera Up Bihar I write interesting articles which provides useful information to my readers.

2 thoughts on “सूर्यग्रहण के समय किन बातो का ध्यान रखना चाहिए।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *